Thursday, 16 November 2017

लेकिन इन सबके बीच एक सवाल यह उठता है कि पाकिस्तान ऐसे लोगों के नाम पर ही अपने मिसाइल कार्यक्रम का नाम क्यों रखता है

जिन जिन हत्यारों ने भारत में किया था हिन्दुओं का कत्लेआम उन्ही के नाम पर हैं पाकिस्तान की मिसाइलों के नाम
पकिस्तान मिसाइल तैयार करते तो हैं पर वो सिर्फ दुनिया भर में अपना आतंकवाद फ़ैलाने के मकसद से करते हैं। आज के समय में तकनीक काफी आगे बढ़ चुकी है. लेकिन उस तकनीक का गलत फायदा उठा कर सबसे ज्यादा कश्मीर को निशाना बनाया जा रहा है। हालाकि यह तो कहना मुश्किल है कि इन कट्टरवादियों की यह चाल और कितनी कामयाब होंगी पर फिर भी भारतीय सैनिक इनको करारा जवाब देने में कोई कसर नहीं छोड़ रहे हैं। पाकिस्तान को भारत से कितनी नफरत है उसका अंदाजा उनकी मिसाइल के नाम से लगाया जा सकत है. पाकिस्तान अब्दाली, गजनवी, गौरी, शाहीन, बाबर नाम की तमाम मिसाइलों का निर्माण कर चुका है।

लेकिन इन सबके बीच एक सवाल यह उठता है कि पाकिस्तान ऐसे लोगों के नाम पर ही अपने मिसाइल कार्यक्रम का नाम क्यों रखता है जिसने भारत पर समय-समय पर आक्रमण करके उसकी ऐतिहासिक, सांस्कृति औऱ धार्मिक धरोहर को नुकसान पहुंचाया। गौर तलाब है कि गजनवी ने 11वीं शताब्दी में भारत पर हमला किया और उसने भारत पर लगातार 17 बार हमला किया, उसने सोमनाथ मंदिर को भी तोड़ा और जमकर लूटपाट की। वहीं अहमद शाह अब्दाली ने 18वीं शताब्दी में सिखों को बड़ी संख्या में मौत के घाट उतारा। 1748 से 1765 के बीच उसने भारत पर 7 बार हमला किया। । वहीं तैमूर लंग ने 1398 में दिल्ली पर हमला किया और बड़ी संख्या में लोगों को मौत के घाट उतार दिया।









--
हिन्दू परिवार संघटन संस्था
 Cont No-9448487317